• Sun. Jun 16th, 2024

Varanasi News : कार्बन क्रेडिट में वाराणसी होगा UP का पहला और देश का 7वां शहर, 50 लाख से 1 करोड़ की आय होने का अनुमान

ByCreator

Sep 8, 2022    150825 views     Online Now 151

Varanasi News. वाराणसी में कार्बन डाइऑक्साइड गैस के उत्सर्जन को कम करने के लिए योगी सरकार प्रामाणिक कदम उठाने जा रही है. कहा जा रहा है कि इससे आम जनता का स्वास्थ्य तो सुधरेगा ही स्मार्ट सिटी की आय में भी वृद्धि होगी. कार्बन क्रेडिट में वाराणसी यूपी का पहला और देश का 7वां शहर होगा. वाराणसी स्मार्ट सिटी जल्द ही इस संबंध में एक एमओयू साइन करने जा रहा है.

योगी सरकार का कहना है कि वह ग्लोबल वार्मिंग, क्लाइमेट चेंज जैसे पर्यावरण को नुकसान पहुंचने वाले तत्वों पर काबू करने के लिए बड़ा कदम उठाने जा रही है. साथ ही योगी सरकार कार्बन क्रेडिट के माध्यम से वाराणसी की जनता की सेहत और पैसा बचाने के लिए भी उपाय कर रही है. वाराणसी स्मार्ट सिटी को आने वाले सालों में इससे 50 लाख से 1 करोड़ की सालाना आय होने का अनुमान है. देखा जाए तो सरकार सीएनजी गाड़ियों, गंगा में सीएनजी बोट, सोलर एनर्जी, ई-व्हीकल, वृक्षारोपण, एलईडी बल्ब, बायोगैस, एसटीपी, सॉलिड लिक्विड वेस्ट मैनेजमेंट आदि के उपयोग को बढ़ावा देकर पहले से ही कार्बन उत्सर्जन को रोकने पर काम कर रही है. रोपवे भी इसमें मददगार साबित होगा.

वाराणसी स्मार्ट सिटी के मुख्य महाप्रबंधक डॉ. डी वासुदेवन ने बताया कि सरकार इसे प्रमाणिक तौर पर करने के लिए सुनियोजित तरीका अपनाने जा रही है. इसके लिए स्मार्ट सिटी कंसल्टेंट के तौर पर एनकिंग इंटरनेशनल एजेंसी से एमओयू करने वाली है. स्मार्ट सिटी सरकारी कंपनियों से एमओयू करेगी और एक्सपर्ट एजेंसी उनको कार्बन क्रेडिट के फायदे और तरीको के बारे में जानकारी देगी. साथ ही उद्योगों को कार्बन डाइऑक्साइड गैस के उत्सर्जन को कैसे रोकें इसके बारे में भी जागरूक करेगी. इसके अलावा जनता को भी इसके लिए जागरूक किया जाएगा.

See also  विधानसभा चुनाव जीतने के बाद अमर अग्रवाल बोले - सारे वादे करेंगे पूरे, जनता के साथ मिलकर छत्तीसगढ़ को संवारेंगे

इसे भी पढ़ें – Agriculture News : नए कलेवर में आधुनिक खेती को आगे बढ़ाएंगे कृषि विज्ञान केंद्र

एक कार्बन क्रेडिट, एक टन (1000 किग्रा) कार्बन उत्सर्जन के बराबर होता है. यदि कोई शहर 5 हजार क्रेडिट कार्बन प्राप्त करके अंतरराष्ट्रीय रजिस्टर्ड संस्था को बेचता है तो उसे 5000 x 4 डॉलर = 20,000 डॉलर का मौजूदा रेट के हिसाब से आय होगी. उन्होंने बताया कि अब वाराणसी की आय इस पर निर्भर करेगी की काशी की जनता कितनी जागरूक है और वे सीएनजी गाड़िया व बोट, सोलर एनर्जी, ई-व्हीकल, एलईडी बल्ब, बायोगैस, सॉलिड लिक्विड वेस्ट मैनेजमेंट, एसटीपी आदि का इस्तमाल और वृक्षारोपण करके कार्बन उत्सर्जन कितना रोका पाती है और कितना कार्बन क्रेडिट प्राप्त कर पाती है.

छतीसगढ़ की खबरें पढ़ने के लिए करें क्लिक 
मध्यप्रदेश की खबरें पढ़ने यहां क्लिक करें
उत्तर प्रदेश की खबरें पढ़ने यहां क्लिक करें
दिल्ली की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें
पंजाब की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें
English में खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें
खेल की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें
मनोरंजन की खबरें पढ़ने के लिए करें क्लिक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

NEWS VIRAL