• Tue. Feb 27th, 2024

क्रिप्टो के बेताज बादशाह चैंगपेंग झाओ ने खो दिया अपना ताज, मनी लॉन्ड्रिंग कानून तोड़ने का पाया गया दोषी…

ByCreator

Nov 22, 2023    150816 views     Online Now 370

न्यूयॉर्क। क्रिप्टो एक्सचेंज बाईनेंस (Binance) के प्रमुख चैंगपेंग झाओ को मंगलवार को अपना पद छोड़ना पड़ा. उन्हें अमेरिकी एंट्री-मनी लॉन्ड्रिंग कानून को तोड़ने का दोषी ठहराया गया है. यह दुनिया के सबसे बड़े क्रिप्टो एक्सचेंज में वर्षों से चली आ रही जांच को हल करने वाले 430 करोड़ डॉलर के समझौते का एक हिस्सा है.

यह डील बाईनेंस औऱ बाकी अमेरिकी एजेंसियों के बीच हुए सेटलमेंट का एक हिस्सा है. इसके जरिए बिना लाईसेंस के पैसों को इधर से उधर करने के कारोबार, साजिश और सैंक्शंस रेगुलेशंस के उल्लंघन से जुड़े चार्जेज का निपटारा हो गया. दुनिया के सबसे बड़े क्रिप्टो एक्सचेंज बाईनेंस के सीईओ झाओ ने ट्वीट लेकर कहा कि वह अपने पद से इस्तीफा दे रहे हैं. उनकी जगह अब 2021 में कंपनी में आए सीनियर एग्जेक्यूटिव रिचर्ड टेंग अब इसकी कमान संभालेंगे.

10 से 18 महीने की सजा का प्रावधान

उन्होंने कहा कि भावनात्मक तौर पर यह आसान नहीं था लेकिन वह जानते हैं कि यही सही है. झाओ ने कहा कि उन्होंने गलतियां की हैं और वह इसकी जिम्मेदारी लेते हैं. CZ के नाम से मशहूर झाओ 5 करोड़ डॉलर व्यक्तिगत रूप से भरेंगे और उन्हें बाईनेंस से किसी भी तरीके से जुड़ने पर रोक लगा दिया गया है. अमेरिकी सजा दिशानिर्देशों के मुताबिक, झाओ पर जो आरोप लगे हैं, उनमें 10 से 18 महीने की जेल की सजा का प्रावधान है. न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, अभियोजक 18 महीने की जेल की सजा की मांग कर रहे हैं.

2017 में किया गया था लॉन्च

झाओ ने वर्ष 2017 में शंघाई में बाईनेंस लॉन्च किया. उस साल कंपनी के चैट ग्रुप में उन्होंने स्टॉफ से बातचीत में इसका दायरा व्यापक बनाने की बात कही थी और उन्होंने सिर्फ सपना ही नहीं देखा बल्कि इसे लगभग पूरा कर दिखाया. झाओ ने जनवरी में पिछले साल के रिव्यू में लिखा कि पहले यह मानना मुश्किल था कि पांच साल पुराना स्टार्टअप इतना मेच्योर हो सकता है और उसी लेवल पर ऑपरेट हो सकता है, जिस पर करीब 200 साल पुराना कोई वित्तीय संस्थान हो, लेकिन अब बाईनेंस ने इसे संभव कर दिया.

12 साल की उम्र में शिफ्ट हुए थे कनाडा

झाओ के व्यक्तिगत जीवन की बात करें तो वह चीन में पैदा हुए थे, और 1989 में 12 साल की उम्र में कनाडा शिफ्ट हो गए थे. उन्होंने पिछले साल एक ब्लॉग में लिखा था कि वह चीन में तिएनमान स्क्वॉयर पर कार्रवाई के करीब दो महीने बाद कनाडा गए थे.

छह महीने में शीर्ष पर पहुंचा बाईनेंस

बाईनेंस छह महीने में दुनिया का सबसे बड़ा क्रिप्टो एक्सचेंज बन गया. हालांकि, इस साल इसकी बाजार हिस्सेदारी में गिरावट आई है, फिर भी CCData के आंकड़ों के मुताबिक यह वैश्विक क्रिप्टोट्रेडिंग वॉल्यूम का लगभग आधा हिस्सा है. गड़बड़ी तब शुरू हुई जब यह अमेरिकी नियमों का पालन करने में फेल रही. इससे अलावा बाईनेंस से अपराधियों को अपने चुराए हुए पैसों को इधर से उधर करने और इसके एक्सचेंजों पर गैरकानूनी गतिविधियों को करने में मदद मिली.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed

NEWS VIRAL