• Tue. Mar 28th, 2023

Agriculture Success Story of Lotus farming Farmers : कमल की खेती

ByCreator

Dec 12, 2022

Agriculture Success Story of Lotus farming Farmers : देश के किसान कई प्राकर से उन्नत खेती के गुण सिखकर न सिर्फ अच्छी खेती कर रहे हैं बल्कि उस खेती से लाखों कमा भी रहे हैं, लेकिन आज देश के कई किसान ऐसे हैं जो अभी तक उन्नत खेती (Advanced farming) के गुण समझ नहीं पाए हैं ! वो किसान आज भी पारंपरिक खेती (Traditional farming) कर अच्छे मुनाफा के इंतजार में बैठे हैं और जब ऐसा नहीं होता तो वो खेती को छोड़ कुछ और कमा में लग जाते हैं !

Agriculture Success Story of Lotus farming Farmers


Agriculture Success Story of Lotus farming Farmers

Agriculture Success Story of Lotus farming Farmers

वहीं हमारे इस कृषि प्रधान देश में कुछ किसान ऐसे भी हैं, जो पेरशान कर देने वाली परिस्थितियों और दुविधा जैसे समय में भी अपने खेती के तरीके को बदल कर भारी मुनाफा कमा रहे हैं ! आज हम आपको एक ऐसे ही गांव के किसानों की कहानी बताने जा रहे हैं ! जहां के किसानों ने पारंपरिक खेती (Traditional farming) से कुछ अलग करते हुए अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं और मिसाल कायम कर रहे हैं !

आज हमको कमल की खेती ( Agriculture Lotus farming ) के बारे में बताने जा रहे हैं ! जैसा की आप सभी जानते हैं कि कमल के फूल ज्यादा तर बड़े और दलदल जैसे तालाबों में ही खिलते हैं, लेकिन एक गांव ऐसा भी है जहां के किसान कमल की खेती करते हैं !

Agriculture Success Story of Lotus farming Farmers

कमल के फूल के बारे में आम तौर पर सभी की यही कहा जाता है कि ये एक कीचड़ में खिलने वाला फूल है, लेकिन एक गांव के किसान इस फूल को सामान्य खेतों या मटमैले पानी में भी उगा रहे हैं और साथ ही इससे अच्छी कमाई कर रहे हैं ! इतना ही नहीं आप चाहें तो इस फूल को अपने घर में भी आसानी से लगा सकते हैं ! पानी में उगने वाले इस फूल के तने लंबे, सीधे और खोखले होते हैं ! कमल की खेती (Lotus farming) किसानों के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता है !

काफी तेजी से बढ़ता है इसका व्यापार

अगर आप कमल की खेती (Lotus farming business) को व्यापार की नजरों से देखें तो आपको पता चलेगा कि इसकी कितनी मांग है और इसकी और इसकी खेती ! आज हम आपको उत्तर प्रदेश के एक गांव के किसानों के बारे में बताते हैं, जो कमल की खेती से हैं अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं ! मुरादाबाद के कांठ क्षेत्र में मोढ़ा तेहिया के रहने वाले किसान कमल की खेती के लिए जाने जाते हैं ! इस फूल की खेती से आज यहां के लोग साधन-संपन्न हैं !

कई एकड़ में होती है खेती : कमल की खेती से यहां के किसान हो रहे हैं मालामाल

इस गांव में कमल की खेती (Lotus farming) लगभग 32 एकड़ में होती है ! यहां के जो किसान कमल की खेती करते हैं वो किसान बताते हैं कि यहां कुछ लोगों के पास झील का ठेका है और जिनके पास नहीं है, वो अपने खेतों इसे उगाते हैं ! साथ ही वो बताते हैं कि यहां से कमल के फूल दिल्ली, बरेली, अलीगढ़, आगरा समेत राजस्थान, पंजाब और हिमाचल के क्षेत्रों में भेजे जाते हैं, जिससे इसको काफी अच्छा मुनाफा मिलता है ! वैसे देखा जाए तो कमल का खास तौर व्यापार थोक का है, तो उत्पादन भी बड़े स्तर पर ही किया जाता है |

त्यौहारों पर सबसे अधिक मांग – Agriculture Success Story

वैसे तो आम तौर पर कमल की फूलों की मांग (Lotus Flower Demand) हमेशा ही मार्केट में बनी ही रहती है, लेकिन त्योहारों पर इसके लिए काफी मांग होती है ! खास कर नवरात्रि के मौके पर तो कमल के फूलों का इतना मुनाफा हो जाता है, जितना आम तौर पर कई फसलों से नहीं होता ! यही कारण है कि यहां के स्थानीय किसान धान और गेहूं की जगह कमल को ज्यादा प्राथमिकता देते हैं !

खेतों में ऐसे उगाया जाता है कमल

Agriculture Success Story of Lotus farming Farmers बता दें कि कमल की खेती (Lotus farming) जुलाई-अगस्त के दौरान होती है ! खेतों की जुताई करके उसमें कमल की जड़े लगाई जाती है ! इसके बाद बीज बोने का काम होता है ! दो महीनों तक खेतों में पानी भरा रहता है, ताकि पानी और कीचड़ का मिश्रण हो सके ! अक्टूबर-नवंबर का माह कमल की कटाई का है ! इसकी जड़ों में जितनी गांठे होती है उतना ही पौधा बाहर आता है !

Ration Card Rule Update : राशन कार्ड के नियम बदलें, इन लोगों का रद्द होगा Ration Card

Related Post

अडानी ग्रुप को जोरदार झटका, औंधे मुंह गिरे सभी शेयर
‘Pathaan’ की जबरदस्त सफलता के बाद शाहरुख खान ने खरीदी Rolls Royce कार, कीमत के साथ-साथ नंबर प्लेट भी है शानदार – Achchhi Khabar, हिंदी न्यूज़, Hindi Samachar
CG NEWS : सड़क हादसे में विधायक पुत्र का निधन, सकते में परिवार, सीएम भूपेश ने जताया दुख – Achchhi Khabar, हिंदी न्यूज़, Hindi Samachar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed