• Sat. Dec 9th, 2023

National Apprenticeship Promotion – Scheme : हर महीने मिलेंगे 15-15

ByCreator

Sep 11, 2022    15086 views     Online Now 169

National Apprenticeship Promotion – Scheme : राष्ट्रीय शिक्षुता प्रोत्साहन योजना ( National Apprenticeship Promotion Scheme ) एक प्रकार का प्रशिक्षण है जो एक कार्यकर्ता को प्रदान किया जाता है ताकि वह किसी विशेष कार्य में कुशल बन सके। शिक्षुता प्रशिक्षण को बढ़ाने के लिए, भारत सरकार ने एक राष्ट्रीय शिक्षुता प्रोत्साहन योजना शुरू की है। इस लेख के माध्यम से हम आपको योजना के बारे में पूरी जानकारी देने जा रहे हैं जैसे राष्ट्रीय शिक्षुता प्रोत्साहन योजना क्या है ? इसलिए यदि आप NAPS के बारे में हर एक विवरण प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको इस लेख को अंत तक बहुत ध्यान से पढ़ना होगा ।

National Apprenticeship Promotion – Scheme

National Apprenticeship Promotion - Scheme

National Apprenticeship Promotion – Scheme

शिक्षुता प्रशिक्षण की आवश्यकता को महसूस करते हुए भारत सरकार ने शिक्षुता प्रशिक्षण को बढ़ावा देने के लिए एक राष्ट्रीय शिक्षुता प्रोत्साहन योजना ( National Apprenticeship Promotion Scheme ) शुरू की है। इस योजना के तहत, सरकार अप्रेंटिसशिप प्रोग्राम के तहत प्रतिष्ठानों के साथ प्रशिक्षण की लागत साझा करने जा रही है ताकि अप्रेंटिसशिप प्रशिक्षण को बढ़ावा दिया जा सके।

बुनियादी प्रशिक्षण प्रदाताओं ( NAPS ) के साथ बुनियादी प्रशिक्षण की लागत सरकार द्वारा वहन की जाएगी। यह बुनियादी प्रशिक्षण लागत 500 घंटे/3 महीने की अवधि के लिए 7500 रुपये तक सीमित होगी। राष्ट्रीय शिक्षुता प्रोत्साहन योजना ( National Apprenticeship Promotion Scheme ) के तहत, प्रति प्रशिक्षु 1500 प्रति माह की अधिकतम सीमा तक निर्धारित वजीफे का 25% सरकार द्वारा नियोक्ताओं के साथ साझा किया जाएगा।

यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि राष्ट्रीय शिक्षुता प्रोत्साहन योजना के तहत वजीफा समर्थन नए प्रशिक्षुओं के लिए बुनियादी प्रशिक्षण अवधि के दौरान नहीं दिया जाएगा। इस योजना के तहत, सभी श्रेणी के प्रशिक्षु जो योजना ( NAPS ) के तहत शामिल नहीं हैं, को कवर किया जाएगा।

शिक्षुता के बारे में

शिक्षुता एक प्रकार का प्रशिक्षण है जो जनशक्ति को उनके कौशल को बढ़ाने के लिए प्रदान किया जाता है। उद्योगों में उपलब्ध सुविधाओं का उपयोग कर उद्योग जगत में यह प्रशिक्षण दिया जाएगा । राष्ट्रीय शिक्षुता प्रोत्साहन योजना ( National Apprenticeship Promotion Scheme ) के तहत बेसिक ट्रेनिंग और ऑन-द-जॉब ट्रेनिंग दी जाती है ( NAPS )। भारत सरकार ने शिक्षुता प्रशिक्षण को बढ़ावा देने के लिए शिक्षुता अधिनियम, 1961 की शुरुआत की है। इस अधिनियम के कार्यान्वयन के लिए कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय जिम्मेदार है।

राष्ट्रीय शिक्षुता प्रोत्साहन योजना की सहायता से प्रतिष्ठानों में उपलब्ध प्रशिक्षण सुविधाओं की सहायता से कुशल एवं कुशल जनशक्ति का विकास होगा। इस कार्यक्रम की मदद से प्रशिक्षण के बुनियादी ढांचे को स्थापित करने के लिए किसी अतिरिक्त बोझ की आवश्यकता नहीं है ( NAPS )। वे सभी लोग जो शिक्षुता प्रशिक्षण से गुजरते हैं, वे आसानी से औद्योगिक वातावरण के अनुकूल हो सकते हैं।

शिक्षुता प्रशिक्षण के लिए 3000 करोड़ रुपये आवंटित

देश में रोजगार को बढ़ावा देने के लिए सरकार अप्रेंटिसशिप ट्रेनिंग पर फोकस कर रही है ! इसके लिए सरकार कई तरह की योजनाएं चला रही है। 2016 में भारत सरकार ने एक राष्ट्रीय शिक्षुता प्रोत्साहन योजना ( National Apprenticeship Promotion Scheme ) शुरू की। इस योजना के माध्यम से सरकार द्वारा शिक्षुता प्रशिक्षण ( NAPS ) को बढ़ावा दिया जाता है ताकि एक कर्मचारी किसी विशेष कार्य में कुशल बन सके। 1 फरवरी 2021 को हमारे देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने वर्ष 2021-22 के केंद्रीय बजट की घोषणा की

इस बजट में सरकार ने अप्रेंटिसशिप एक्ट में संशोधन का प्रस्ताव रखा है। ताकि युवाओं के लिए अप्रेंटिसशिप के अवसरों को बढ़ाया जा सके। राष्ट्रीय शिक्षुता प्रोत्साहन योजना प्रशिक्षण को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने 3000 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं ( NAPS )। इसके अलावा, सरकार ने कर्मचारियों को कौशल, योग्यता, मूल्यांकन और प्रमाणन विकसित करने के लिए संयुक्त अरब अमीरात के साथ एक साझेदारी स्थापित की है

शिक्षुता प्रशिक्षण के प्रकार : National Apprenticeship Promotion Scheme

बुनियादी प्रशिक्षण : बुनियादी प्रशिक्षण ( NAPS ) एक प्रकार का प्रशिक्षण है जो उन व्यक्तियों को प्रदान किया जाता है जिन्होंने नौकरी प्रशिक्षण लेने से पहले किसी भी प्रकार का प्रशिक्षण नहीं लिया है। राष्ट्रीय शिक्षुता प्रोत्साहन योजना ( National Apprenticeship Promotion Scheme ) के तहत 7500 रुपये तक के बुनियादी प्रशिक्षण की लागत सरकार द्वारा साझा की जाती है ताकि प्रशिक्षण को बढ़ावा दिया जा सके।

नौकरी पर प्रशिक्षण : नौकरी पर प्रशिक्षण या व्यावहारिक प्रशिक्षण एक प्रकार का प्रशिक्षण है जो प्रतिष्ठानों में प्रदान किया जाता है। यह NAPS आमतौर पर प्रतिष्ठान द्वारा ही प्रदान किया जाता है। नौकरी प्रशिक्षण के तहत आवेदक को व्यावहारिक अनुभव दिया जाता है ताकि वह अपना कार्य पूरी तरह से कर सके। राष्ट्रीय शिक्षुता प्रोत्साहन योजना ( National Apprenticeship Promotion Scheme ) के तहत प्रशिक्षण लागत भी सरकार द्वारा एक निश्चित सीमा तक साझा की जाती है ताकि प्रशिक्षण को बढ़ावा दिया जा सके।

यह भी जानें :- 

PM Kisan Yojana Date : इस तारीख को मिलेगी 12 वीं क़िस्त , किसान ऐसे चेक करें स्टेटस

e-SHRAM Card Payment Available : श्रमिकों के खातें में आएँ 1-1 हज़ार , ऐसे चेक करें स्टेटस

PM Mudra Loan Yojana 2022 Update : मुद्रा योजना में ले सकतें है 10 लाख का लोन, देखें

Related Post

‘I Am sorry… I quit’ के बाद मौत : विवाहित महिला की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत, परिजनों ने ससुराल वालों पर दहेज प्रताड़ना का लगाया आरोप, पति समेत 3 गिरफ्तार
CG में बयान से मचा बवालः बृहस्पति सिंह के बयान से भड़क उठे कांग्रेसी विधायक, कहा- ऐसे शब्द नहीं किए जाएंगे स्वीकार, उठी पार्टी से बाहर करने की मांग…
मिशन-2024 : PM मोदी 17 को आएंगे वाराणसी, काशी से करेंगे प्रचार का शंखनाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed

NEWS VIRAL